WHEN DREAMS BREAK – सपना मेरा,टूट गया

सपने इन्सान को न केवल ज़िन्दा रखते हैं बल्कि उसे आगे बढ़कर जीवन में कुछ नया करने की प्रेरणा भी प्रदान करते हैं।सपने ही इन्सान को भीड़ से अलग दिखने व सर्वश्रेष्ठ बनने के लिये प्रोत्साहित करते हैं।जीवन में अगर कोई सपना न हो तो जीवन सूना व बेज़ार लगने लगता है।बिना सपनों के जीवन जीने की कामना ही व्यर्थ है।जीवन की सारी प्रेरणाएँ, आशाएँ व कामयाबी सपनों की बुनियाद पर ही टिकी हुई हैं।सपनों के बिना जीवन जीने की कल्पना बेमानी है।सपने ही हमें अपना व अपनों का जीवन बेहतर बनाने की प्रेरणा प्रदान करते हैं।सपने हैं तो हम हैं।

सपनों का टूट कर बिखर जाना

सपने देखने की जो ख़ूबसूरती भगवान ने हम इंसानो को दी है वही हमें कायनात के दूसरे जीव-जंतुओ से अलग बनाती है।इसी की बदौलत इन्सान न केवल ख़ुद का बल्कि दूसरों का भी उद्धार कर सकता है।लेकिन इन्सान जो सपने देखता है,वह हमेशा पूरे नहीं होते हैं।अधिकांश सपने वास्तविकता से दूर व अत्यन्त आकर्षक होते हैं।इन्हें जीवन में साकार करने के लिये खुले दिमाग़ से सोच विचार कर कड़ी मेहनत व एक लम्बी प्लानिंग की ज़रूरत होती है। तन,मन व धन से भरपूर प्रयास करने व अपना सब कुछ झोंक देने के बाद भी कभी कभी असफलता हाथ लगती है,जो इन्सान को तोड़ कर रख देती है और उसे घोर निराशा में धकेल देती है।उसे सारे सपने बेमानी लगने लगते हैं।ख़ुद पर विश्वास डगमगाने लगता है और अपनी क़ाबलियत पर शक पैदा होने लगता है।किसी नये सपने पर काम करना मानसिक तौर पर डर पैदा कर देता है।पुराने घाव रह रह कर उभर कर सामने आते हैं लेकिन जीवन की इस घोर निराशा में भी आशा की एक किरण बाक़ी रहती है।इसी के सहारे पुराने संकल्पों को पूरा कर फिर से सपने संजोये जा सकते हैं और अपने सपनों को धरातल पर उतारा जा सकता है।

कैसे संजोयें अपने सपने

सपने टूटने से पैदा हुए अविश्वास को दूर करने के लिये व आत्मविश्वास को बनाये रखने के लिये एक बार फिर से एक नया सपना देखने की ज़रूरत है।वह सपना जो पहले से न केवल बड़ा व भव्य होगा बल्कि वास्तविकता के भी क़रीब होगा।इस बार हमारे साथ हमारा अमूल्य अनुभव भी होगा,जो हमें उन तमाम कठिनाइयों व ग़लतियों से बचायेगा जो हमने अपने पिछली बार की थी।जैसे जैसे हम सपनों का पीछा कर अपने मुक़ाम पर पहुँचने लगते हैं वैसे वैसे हमारे आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होती जाती है।अपनी नाकामियों से सीख कर आगे बढ़ना ही ज़िन्दगी है।सपना हर किसी का टूटता है लेकिन कुछ लोग ही नये सपने देखने की हिम्मत जुटा पाते हैं और अपने सपनों को साकार कर पाते हैं।हार जीत जीवन का एक हिस्सा है।एक बार असफलता मिलने का मतलब यह नहीं है की आप हमेशा ही असफल होंगे,अपने दृढ़निश्चय व बुलन्द हौसलों से नये लक्ष्य बनाकर जीवन में आशातीत सफलता प्राप्त की जा सकती है।हर असफलता यह सिद्ध करती है की सफलता का प्रयास पूरे मन से नहीं किया गया था।इसी से सीख लेकर हमें दुगने उत्साह से दोबारा जुट जाना चाहिये।

आगे बढ़िये,मंज़िल आपके सामने हैं

जब तक आपके सपनों में जान होती है,उसके पूरा होने की सभी सम्भावनाएँ मौजूद रहती हैं।अतः कभी अपने सपनों को मरने न दें और उनका तब तक पीछा करें जब तक वह अपने मुक़ाम तक न पहुँच जायें।दुनिया में जितने भी सफल इन्सान हैं उन्होंने अपने सपनों को पूरा करने के लिये जी जान की बाज़ी लगा दी है और अपने सपनों को साकार करके ही दम लिया है।आप भी किसी से कम नहीं है,बस एक क़दम उठाने की आवश्यकता है।अपनी पुरानी असफलता से सीखिये और नये सपने को पूरा करने के जुट जायें।आपकी सफलता की कहानी सिर्फ़ आप ही लिख सकते हैं।अपने आत्मविश्वास को बढ़ाइये।वह दिन दूर नहीं जब सफलता आपके क़दम चूमेंगीं और आपके सपने धरातल पर उतरेंगे, पहले से अधिक भव्य व वास्तविकता के क़रीब। धन्यवाद व जय हिन्द

2 Replies to “WHEN DREAMS BREAK – सपना मेरा,टूट गया”

Leave a Reply