SPRING WILL COME AGAIN – बहारें फिर से आयेंगी

SPRING WILL COME AGAIN – बहारें फिर से आयेंगी

दुनिया भर में जैसे जैसे कोरोना केस में बढ़ोतरी हो रही है वैसे वैसे दिल की धड़कने तेज़ हो रही हैं।भारी व बोझिल वातावरण दिमाग़ में घर कर गया है।तनाव सिर चढ़कर बोल रहा है।मौजूदा परिस्थितियों से डरकर हार कर समर्पण करने वालों की तादाद में तेज़ी से बढ़ोतरी हो रही है।खुली हवाओं में साँस लेना दुर्लभ हो गया है।सार्वजनिक स्थल की गहमागहमी मन को तरसा रही है।पार्कों की स्वच्छ हवा मन को आकर्षित कर रही है।धार्मिक स्थल सूने पड़े हैं।पहाड़ों व टूरिस्ट स्पाट में कभी न ख़त्म होने वाली वीरानी प्रतीत होती है।स्कूलों का शोर अब मन को लुभाने लगा है।घर में कम्प्यूटर व मोबाइल के ज़रूरत से ज्यादा उपयोग से ऊब पैदा हो रही है।ज़िन्दगी मानो ठहर सी गयी है।ऐसी अभूतपूर्व परिस्थितियाँ इससे पहले कभी भी सामने नहीं आयी थी।आख़िर कब ख़त्म होगा क़ोरोना ?

अपने आपको मज़बूत बनायें

जो होगा अच्छा ही होगा, हालाँकि इससे पूर्व ऐसी ख़तरनाक परिस्थितियों का हमें सामना नहीं करना पड़ा है लेकिन वक़्त के साथ साथ सब कुछ बदल जाता है।दुनिया भर के रिसर्चर अत्याधुनिक तकनीक व इनोवेशन के ज़रिये इस ख़तरनाक वायरस का टीका खोजने में युद्धस्तर पर जुटे हैं।जब तक इस महामारी का कोई इलाज नहीं मिल जाता है,हमें वक़्त के साथ क़दमताल करने की ज़रूरत है।अपनी भागदौड़ से भरी व व्यवस्थित ज़िन्दगी को यूँ जीना थोड़ी मायूसियत पैदा करता है,लेकिन वक़्त के साथ बदलना ही आज की ज़रूरत है।आप अपने सकारात्मक पहलू पर ध्यान दें और लोगों के बीच में ख़ुशियाँ बाँटे।मिल बाँटने से ख़ुशियाँ बढ़ती हैं।अभी व्यक्तिगत तौर पर मिलना सम्भव नहीं है तो मोबाइल पर ही इसकी शुरुआत करें।कुछ छोटे छोटे क़दम उठाने से ज़िन्दगी की परेशानियों को कम किया जा सकता है और अपनी भावी ज़िन्दगी को ख़ुशहाल बनाया जा सकता है।

अपने आने वाले बेहतरीन समय की लिस्ट में रोज़ एक नई चीज़ जोड़ें जिसे आप इस वायरस के जाने के बाद अपनाना चाहेंगे और उसका खुलकर मज़ा लेना चाहेंगे।इस सपने को अपनी ज़िन्दगी में अभी से उतारना शुरू कर दें।

आप जब उदास हों तो अपने अपने सुनहरी अतीत को याद करें।आप उन ख़ुशियों को याद कर अपने आपको आनंदित व प्रफ़ुल्लित महसूस करेंगे।जीवन के ये छोटे छोटे पल हमारी ज़िन्दगी की अनमोल विरासत है, इन्हें यूँ ही संजो कर रखें।

सकारात्मक विचारों से भरी ज्ञानवर्धक पुस्तकों को अपना साथी बना लें।रोज़ 15 से 20 पेज अवश्य पढ़े।किताबें व्यक्ति का सबसे अच्छा मित्र होती हैं।

इस संकट की घड़ी में आपका परिवार ही आपका सहारा है।लॉकडाउन में परिवार के साथ व्यक्तिगत सम्बन्धों को आपने जो ऊँचाई दी है,उस भरोसे व विश्वास को बनाये रखने के लिये जी जान से जुट जायें।

यह दृढ़निश्चय कर लें की आपमें जो सकारात्मक बदलाव हुए हैं,आप उन्हें कोरोना काल के बाद भी बनायें रखेंगे और अपने आपको बेहतर साबित करने के लिये जी जान लगा देंगे।

ज़िन्दगी फिर से मुस्कराएगी

बहुत जल्द हम इस बीमारी से निजात पा लेंगे।समय निरन्तर चलता रहता है।बुरे वक़्त में अपने आपको संभालना ही सबसे बड़ी ज़रूरत है।अपने आप को सम्भालिए।वह दिन दूर नहीं जब हम खुली हवाओं में साँस लेंगे और ज़िन्दगी के हर क्षण का भरपूर मज़ा ले पायेंगे।मनोरंजन के तमाम साधन हमारी मुट्ठी में होंगे और ज़िन्दगी को हम अपनी मर्ज़ी से जी पायेंगे।ऐसी अभूतपूर्व स्थिति में हमने जो एकजुटता दिखाई है,उसके सुखद परिणाम बहुत जल्द हमारे सामने होंगे।यह नयी दुनिया हमें बहुत सावधानी से नये क़ायदे क़ानूनों से भरी ज़िन्दगी प्रदान करेगी,मानव स्वभाव के अनुसार बहुत जल्दी से इसे हम अपने ज़िन्दगी में ढाल लेंगे।ज़िन्दगी एक बार फिर से मुस्कराएगी एक नयी उम्मीद नया भरोसा लिये,पहले से ज्यादा सुरक्षित व ज्यादा संवेदनशील।एक बार फिर बहारें फिर से आयेंगी। धन्यवाद व जय हिन्द

Leave a Reply

%d bloggers like this: