NORTH KOREA – क्या तानाशाह का पतन निश्चित है ?

उत्तर कोरिया के क्रूर और सनकी शासक किम जांग उन को दिल की बीमारी से गंभीर रूप से बीमार होने व सर्जरी के बाद उनकी हालत बिगड़ने की अपुष्ट ख़बरें पूरी दुनिया में सुर्खियों में छायी हुई हैं।दुनिया भर में आँतक का पर्याय बने और परमाणु बटन पर अंगुली रखे इस शासक की क्रूरता के क़िस्से पूरे विश्व में चर्चित हैं। एक ऐसा शासक जिसकी मर्ज़ी के बिना उत्तर कोरिया में एक पत्ता तक नहीं खड़क सकता और जिसने वर्षों से अपनी अय्याशी व आँतक से उत्तर कोरिया की जनता को भूख व ग़रीबी से बदहाल कर रखा है। किम जांग उन का पतन निश्चित रूप से कोरिया उपमहाद्वीप में ख़ुशहाली लाने वाला सिद्ध होगा।

NORTH KOREA - क्या तानाशाह का पतन निश्चित है ?

किम यांग उन ने राष्ट्रपति बनते ही जनता को गहरे अंधकार में धकेल दिया और उनके ऊपर इतनी बंदिशे लगाई की जनता त्राहिमाम करने लगी।इन बंदिशो में सख़्ती के साथ साथ सनकीपन भी कूट कूट कर भरा था।अगर आप इन अजीबोग़रीब क़ानून के बारे में जानेगे तो हैरान हो जायेंगे।उत्तर कोरिया में हर पाँच साल में चुनाव होते हैं लेकिन सिर्फ़ एक उम्मीदवार चुनाव लड़ सकता है और वह किम जांग उन है।यहाँ टीवी पर आप वही चीज़ देख सकते हैं जिसे सरकार दिखाना चाहती है।आप इस देश में अपने मनपसंद कपड़े नहीं पहन सकते हैं।यह भी सरकार तय करती है।उत्तर कोरिया में आप अपने मन मुताबिक़ बाल नहीं कटवा सकते हैं।सरकार द्वारा लाये गए हेयर स्टाइल के मुताबिक़ ही बाल कटवा सकते हैं।यहाँ पुरूषों के लिये 10 व महिलाओं के लिए 18 स्टाइल निर्धारित हैं। उत्तर कोरिया में इंटरनेट की पहुँच सिर्फ़ चुनिंदा लोगों तक ही है।जो यहाँ के ख़ुद के बनाये ओपरेटिंग सिस्टम पर काम करता है। यहाँ के अख़बार व किताबें सिर्फ़ उत्तर कोरिया की ख़बरें छाप सकती हैं। यहाँ पर अपनी कार रखने की आज्ञा सिर्फ़ सरकारी व सेना के अधिकारियों के पास होती है।यहाँ के सभी मकानों को भूरे रंग में रंगना अनिवार्य है।उत्तर कोरिया के लोग कभी देश छोड़कर बाहर नहीं जा सकते हैं। यहाँ आने वाले पर्यटक को अपना मोबाइल व कैमरा हवाई अड्डे पर ही जमा करवाना पड़ता है। इसलिए कोई भी व्यक्ति यहाँ की तस्वीर नहीं खींच सकता है।पर्यटकों को स्थानीय लोगों से बात करने की सख़्त मनाही है।यहाँ बाइबल रखने व दक्षिण कोरिया की फ़िल्म देखने पर मृत्यु दंड भी दिया जा सकता है।उत्तर कोरिया में किम जांग उन की मरजी के बिना परिंदा भी पर नहीं मार सकता है।लोगों की गतिविधियों पर नज़र रखने व उनमें दहशत बनाये रखने के लिये कई एजेंसीयों का गठन किया गया है। इनका उल्लंघन करने वाले व्यक्ति को बड़ी भयानक मौत दी जाती है।

NORTH KOREA - क्या तानाशाह का पतन निश्चित है ?

उत्तर कोरिया की आधी से अधिक जनता जहाँ दो वक़्त की रोटी के लिये तरस रही है वहीं किम जांग उन की अय्याशी के क़िस्से पूरी दुनिया में मशहूर हैं। दुनिया की कोई ऐसी सुख सुविधा नहीं है,जिसका फ़ायदा यह क्रूर शासक नहीं उठाता है। दुनिया के ग़रीब मुल्कों में गिने जाने वाले उत्तर कोरिया का शासक कितना अमीर है, इसका अंदाज़ा उसकी बेहिसाब दौलत व एशो आराम से लगाया जा सकता है।किम जांग उन के पास 17 महल है।जिनमें दुनियाभर की तमाम सुख सुविधाएँ व साधन उपलब्ध हैं।किम जांग उन के पास अपनी लग्ज़री याट है,जिसपर पैसा पानी की तरह बहाया गया है।किम के पास अपना ख़ुद का टापू है, जिसमें वह अपने ख़ास मेहमानों को रखता है।इस 7 स्टार की सुविधाओं वाले टापू पर एक बड़ा महल, फ़ुटबाल का मैदान, बास्केटबॉल का मैदान, पैराग्लाइडिंग व मनोरंजन की तमाम सुविधाएँ उपलब्ध है।किम जांग उन जब विदेशी दौरों पर बाहर जाता है तो अपना लाखों की लागत से बना टायलेट साथ लेकर जाता है। किम को हवाई यात्रा से डर लगता है इसलिए उसने देश विदेश में घूमने के लिये अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस तीन ट्रेन बनवाई है।पूरी तरह बुलेटप्रूफ़ इस ट्रेन के डिब्बों में दुनिया भर की सुविधाएँ जुटाई गयी हैं।दो ट्रेनें सुरक्षा की दृष्टि से आगे पीछे चलती हैं।इनकी सुरक्षा के लिये 20 प्राइवेट स्टेशन बनाये गये हैं जहाँ सिर्फ़ उनकी ट्रेन रुकती है। इसके अलावा भी किम जांग उन के पास दुनिया की बेहतरीन माने जाने वाली लग्ज़री गाड़ियों का क़ाफ़िला है। दुनिया की महँगी व बेहतरीन शराब जिसका मूल्य क़रीब 4 लाख प्रति बोतल है, व 3000 रुपये की फ़्रेंच डिजाइनर सिगरेट की डिब्बी किम जांग उन के दैनिक उपयोग में शामिल है।

NORTH KOREA - क्या तानाशाह का पतन निश्चित है ?

जहाँ एक तरफ़ उत्तर कोरिया की जनता भूख, मुफ़लिसी व कड़े क़ानूनों के साये में ज़िंदगी गुज़ार रही है वहीं दूसरी ओर किम जांग उन के अत्याचार बढ़ते जा रहे हैं।दुनिया की पाँचवी सबसे बड़ी थल सेना माने जाने वाली उत्तर कोरिया की फ़ौज पर प्रभावी नियंत्रण स्थापित करने और जनता को जल्द ही राहत दिलाने के लिये पूरे विश्व को मिलजुल कर प्रयास करने चाहिये।इसी में कोरिया उपमहाद्वीप और पूरे विश्व की भलाई निहित है। धन्यवाद व जयहिन्द

Leave a Reply