LOCKDOWN – ऐसी ज़िंदगी न मिलेगी दोबारा

LOCKDOWN – ऐसी ज़िंदगी न मिलेगी दोबारा

LOCKDOWN - ऐसी ज़िंदगी न मिलेगी दोबारा

आज पूरी दुनिया में कोरोना वायरस का आतंक सिर चढ़कर बोल रहा है।क़रीब 4 लाख से ज़्यादा लोग इस बीमारी की चपेट में हैं।कोई कारगर इलाज ना होने के कारण पूरी दुनिया के तक़रीबन 230 करोड़ लोग LOCKDOWN ( ऐकांतवास ) में बन्द हैं। जिनमे भारत के 130 करोड़ लोग भी शामिल हैं। पूरे विश्व ने आज से पूर्व ऐसा संकट कभी नहीं देखा है। कोरोना के संकट ने अमीर-ग़रीब सभी देशों को एक क़तार में खड़ा कर दिया है।इस भयानक बीमारी से बचने का सबसे सुरक्षित उपाय,अपने आप को अपने परिवार के साथ LOCKDOWN करना है।

LOCKDOWN - ऐसी ज़िंदगी न मिलेगी दोबारा

LOCKDOWN के इस अभूतपूर्व अनुभव ने हमें एक नयीं दुनिया का अहसास कराया है। हर व्यक्ति को,अपने आप को आत्मनिर्वासित करना बहुत मुश्किल साबित हो रहा है।घर एक जेल की तरह लग रही है।जीवन के इस कठिन समय में अगर आपने अपने समय का बेहतरीन इस्तेमाल कर उसे एक नई दिशा प्रदान कर दी तो आपकी आने वाली ज़िंदगी न केवल ख़ुशहाल व बेहतरीन होगी बल्कि आप अपने परिवार व समाज के लिये एक बेहतर इंसान साबित होंगे।

LOCKDOWN - ऐसी ज़िंदगी न मिलेगी दोबारा

सबसे पहले हमें अपने समय का निर्धारण इस तरह से करना है की विभिन्न गतिविधियों के लिए हमारे पास अपने साथी,परिवार के लिए पर्याप्त वक़्त हो और पिछले कई वर्षों से सोचते आ रहे अपने शौक़ व अरमान भी पूरे कर सकें।समय की क़मी का बहाना बनाकर वर्षों से अपने मन में दबाए,अपनी इच्छाओ को पूरा करने का इससे बेहतरीन मौक़ा फिर कभी नहीं मिलेगा। अब हम किसी काम के लिये समय की क़मी के मोहताज नहीं रहेंगे।

—-हम अपने विभिन्न शौक़ जैसे पेंटिंग,गायन,कूकिंग,डांस आदि घर पर सीख सकते हैं। इसके लिए हम अपने परिवार के साथ साथ ऑनलाइन क्लास की भी मदद ले सकते है। —- बच्चों के साथ वक़्त बिताने का इससे सुनहरी मौक़ा फिर कभी नहीं मिलेगा।बच्चों के मन के जज़्बात को समझें।उनके साथ खेलते हुए ख़ुद बच्चा बनना शानदार अनुभव होगा—— अपने साथी की रसोई में भरपूर मदद करें। आप घर का बना स्वच्छ,स्वादिष्ट व संतुलित भोजन खा सकते है।और कई नयीं व्यंजन बनाने की विधियाँ भी सीख सकते है। —- आप अपनी फ़िटनेस पर ध्यान लगा सकते है। हल्की फुल्की कसरत कर सकते है। योग की कई आसान मुद्राओं का अभ्यास कर अपने जीवन को रोगमुक्त बना सकते है।

LOCKDOWN - ऐसी ज़िंदगी न मिलेगी दोबारा

आज के इस डिजिटल युग में सिर्फ़ बिज़नेस या जॉब कर लेने मात्र से ही कामयाबी नहीं मिलती अपितु इनको और बेहतर बनाना वक़्त की ज़रूरत है।ऑनलाइन प्लेटफ़ार्म पर आजकल हज़ारों ऐसे शॉर्ट टर्म कोर्स चल रहे हैं जिनको आप फ़्री में सीख कर अपने बिज़नेस या जॉब को अगले मुक़ाम पर ले जा सकते हैं। अगर आप अपनी नॉलेज किसी के साथ फ़्री में शेयर करना चाहते हैं तो ऑनलाइन से बढ़िया प्लेटफ़ार्म कोई नहीं है। – —- अगर आप जीवन के किसी भी विषय में जानकारी रखते हैं तो आप अपना BLOG शुरू कर सकते हैं। मात्र 10 मिनट में फ़्री में बनने वाले BLOG में आप अपना ज्ञान सबके साथ बाँट सकते है।ज्ञान बाँटने के साथ साथ आप अच्छी कमाई भी कर सकते है।—- आप ऑनलाइन गेम का भी मज़ा ले सकते हैं।

LOCKDOWN - ऐसी ज़िंदगी न मिलेगी दोबारा

किताबें आदमी का सबसे अच्छा मित्र होती हैं।इन ख़ाली दिनों में आप किताब पढ़कर अपनी सीखने की कला को एक अलग मुक़ाम पर ले जा सकते हैं। मोटिवेशनल किताबें आपके जीवन में एक नयी ख़ुशनुमा कार्यप्रणाली का संचार करती है। आप इन किताबों को पढ़कर अपना जीवन ख़ुशहाल,सुद्र्ढ,क्रांतिकारी व प्रेरणा से भरा बना सकते हैं। – —- इसके अलावा भी आप घर बैठे ऐसे अनेक़ो काम कर सकते हैं जो आपके परिवार के लिए बेहद मायने रखते हैं।जैसे घर की सफ़ाई में मदद करना,लॉन साफ़ करना, कोई छोटी मोटी रिपेयर करना आदि।

LOCKDOWN - ऐसी ज़िंदगी न मिलेगी दोबारा

अपने समय का सदुपयोग कर,अपने बच्चों व परिवार के साथ बिताये ये दिन आपके जीवन की जमा पूँजी बन जाएँगे।इससे एक नया रिश्ता पनपेगा,जो पहले से ज्यादा मज़बूत,टिकाऊ,व सवेंदनशील होगा। इन छुट्टीओं में आपको अपने परिवार की उन ख़ासियतों का पता चलेगा,जिनसे आप अभी तक अनजान थे।आप ज़िंदगी की उन छोटी छोटी बातों के महत्व के बारे में जानेंगे जिनको आपने कभी महत्व नहीं दिया। संक्षेप में यह LOCKDOWN आपकी ज़िंदगी जीने के मायने बदल देगा। धन्यवाद व जय हिन्द

This Post Has 2 Comments

  1. priya

    👏👏

  2. khyaati Seth

    kya aap mujhe ye hindi font kaise use kare bata sakte hai ?? thank u ..

Leave a Reply