LIFE IS A CHALLENGE – जीवन एक संघर्ष

LIFE IS A CHALLENGE – जीवन एक संघर्ष

इन्सान के जीवन में संघर्ष का दौर जन्म से ही शुरू हो जाता है,जब वह चलना सीखता है।वह गिरता है, उठता है, फिर से गिरता है, लेकिन चलना सीख जाता है।समय बीतने के साथ साथ जीवन के संघर्षों में पैनापन आना शुरू हो जाता है।वह एक समस्या पर विजय पाता है तो दूसरी समस्या सामने तैयार मिलती है।ज़िंदगी इसी संघर्ष का नाम है।हर नया दिन अपने साथ नयी चुनौतियाँ लेकर आता है।इन्ही चुनौतियों से जूझना व उनका समाधान निकालकर आगे बढ़ना ही ज़िन्दगी है।हमारा संघर्ष ही यह निर्धारित करता है की हम इन मुश्किल हालात में टूटकर बिखर जायेंगे या संघर्ष कर निखर जायेंगे।संघर्ष जीवन का शाश्वत सत्य है।

जीवन एक संघर्ष

जीत के लिये संघर्ष ज़रूरी है

जब परिस्थितियां हमारे वश में नहीं रहती हैं तो उनके साथ संघर्ष करके ही विजय पाई जा सकती है और उन्हें अपने अनुकूल बदला जा सकता है।हम स्वयं पर जितना भरोसा करेंगे,उतनी ही तेज़ी से से मुश्किल हालात से उबर कर सामने आयेंगे।जीवन में संघर्ष ही हमें निखारता, सँवारता व बनाता है।संघर्ष ही हमें जीने की राह दिखाता है।अतः जीवन में आये संघर्षों से बचकर नहीं अपितु लड़कर जीना है और अपने सुनहरे भविष्य की राह तलाशनी है।जीवन में कभी हमें संघर्ष करना पड़े तो समझिए की आप धीरे धीरे अन्दर से मज़बूत हो रहे हैं।आज का संघर्ष आपको आने वाले कल के लिये बेहतरीन तरीक़े से लड़ने के लिये तैयार कर रहा है।कुछ चीज़ों का समय के साथ ही पता चलता है।अपनी इसी अंदरूनी ताक़त को पहचानकर ही आप दुनिया की हर बेहतरीन चीज़ को पा सकते हैं बस अपने संघर्ष करने की क्षमता को ज़िन्दा रखना है।

संघर्ष करें, समर्पण नहीं

हम अपने आप को ख़ुद परास्त करते हैं,जब हम संघर्ष करने के बजाए समर्पण करना पसन्द करते हैं।दरअसल संघर्ष न करने वालों के लिये समर्पण ही एकमात्र रास्ता बचता है और समर्पण का अर्थ है,नाकामी,हार।जो जीवन के हर क्षण में आपको कचोटती है, रुलाती है और अन्दर से तोड़ कर रख देती है क्योंकि आपने संघर्ष नहीं किया और जीवन की मुश्किलों से हार मान ली है।अपने आपको इस परिस्थिति से बचाइये और जीवन में संघर्ष को खुले दिल से स्वीकार कीजिये।ज़िन्दगी में बुरा समय आये तो उसे आगे बढ़कर गले लगाइये और अपने संघर्षों से उसे अपने लिये अनुकूल साबित कीजिए,यही ज़िन्दगी का फ़लसफ़ा है।

संघर्ष ही जीवन है

जीवन में परिवर्तन का दौर हमेशा चलता ही रहता है।जीवन में निरन्तर संघर्ष ही हमें परिवर्तन के इस दौर से वाक़िफ़ करवाता है।सफलता सभी को आकर्षित करती है किन्तु उसे पाने के लिये की गयी कड़ी मेहनत, त्याग व संघर्ष को कोई जानना नहीं चाहता है।संघर्ष की कसौटी पर खरा उतरकर ही मनुष्य का व्यक्तित्व व चरित्र बनता है।जीवन में अगर संघर्ष न हो तो जीवन सूना व बेमानी है।हमारा मूल कार्य ही संघर्ष करना है।जीवन में अगर किसी लक्ष्य को पाना है तो हमें लड़ना ही होगा, संघर्ष करना ही होगा।यही जीवन का सार है। धन्यवाद व जय हिन्द

This Post Has One Comment

  1. PERMILA RANI

    सकारात्मक प्रेरणा , प्रमिला रानी

Leave a Reply