INDIA – मेरा भारत महान

INDIA – मेरा भारत महान

दुनिया भर में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या जहाँ 30 लाख से ज्यादा है वहीं इससे 2 लाख से ज्यादा लोग आकस्मिक मृत्यु का शिकार हुए हैं।पूरी दुनिया में इसके प्रसार को रोकने के लिये सरकारें युद्ध स्तर पर कार्य कर रही हैं और उन्होंने अपने तमाम संसाधनों को झोंक दिया है।विभिन्न देशों में इस दिशा में कुछ प्रगति हुई है,लेकिन उस पर गर्व करने जैसा कुछ नहीं है।स्वास्थ्य जगत की कुछ बड़ी शक्तियों के बीच 130 करोड़ जनसंख्या वाले विकासशील देश भारत ने अपने विभिन्न प्रयासों से कोरोना पर उल्लेखनीय सफलता पायी है और दुनिया के आगे उदाहरण पेश किया है। लेकिन भारत की यह सफलता की कहानी विदेशी मीडिया पचा नहीं पा रही है और अनर्गल प्रलाप कर रही है।दुर्भाग्यवश कुछ भारतीय भी इनसे जुड़कर देश को बदनाम कर रहे हैं और अपनी राजनैतिक रोटियों को सेंक रहें हैं।

INDIA - मेरा भारत महान

आज हर दूसरे तीसरे दिन विदेशी मीडिया में भारत में कोरोना केस कम आने की वजह पर्याप्त टैस्ट न होना व कोरोना मामलों को छुपाना, जैसी बातें प्रकाशित हो रही है।विदेश के कई अख़बार व मैगज़ीन भारत में स्थित लाखों झुग्गी झोंपड़ियों में हज़ारों मरीज़ों के होने की कामना कर रहे हैं और साफ़ पानी व बेहतर हाईजीन की कमी का रोना रो रहे हैं।लेकिन अपनी जनता व सरकारों की मूर्खता का बखान करने में इनको ज़ोर आ रहा है।जहाँ तक भारत की बात है, सरकार द्वारा समय रहते पर्याप्त क़दम उठाये गये और समय पर लॉकडाउन कर इसके प्रसार को बढ़ने से रोक लिया गया।कोरोना के प्रथम स्टेज पर 117 करोड़ भारतीयों के मोबाइल फ़ोन पर कोरोना से सम्बंधित जानकारी व बचाव के संदेश प्रसारित किये गये। प्रतिदिन 250 टैस्ट होने की संख्या आज 45000 प्रतिदिन तक पहुँच चुकी है।आज भारत की 100 से अधिक बड़ी कम्पनियाँ मास्क, हैंड सेनीटाइज़र, पीपीई सूट व वेंटिलेटर का निर्माण कर रही है।विभिन्न प्रदेशों में 5 लाख से अधिक क्वॉरंटीन बेड उपलब्ध है। भारत के एक भी मरीज़ को बिना वेंटिलेटर के मरना नहीं पडा है जबकि यूरोपीय देशों की हालात से आप वाक़िफ़ हैं। भारत द्वारा 100 से अधिक देशों को दवाइयाँ व जरुरी मेडिकल उपकरणो की सप्लाई की जा रही है।इन्ही सबके कारण विदेशी मीडिया अपनी भड़ास निकाल रही है और तीसरी दुनिया के देश की कामयाबी को पचा नहीं पा रही है।

INDIA - मेरा भारत महान

भारत ने कोरोना संक्रमण की रफ़्तार पर कुछ हद तक रोक लगा रखी है और दिनों दिन शुभ संकेतों में बढ़ोतरी हो रही है।इसका पूरा श्रेय सरकार के प्रयासों,मेडिकल व पुलिस स्टाफ़ के त्याग व जनता के बलिदान को जाता है।भारत के मेडिकल स्टाफ़ व डॉक्टर ने जहाँ अपनी जान की बाज़ी लगाते हुए मरीज़ों के लिये कोई कसर नहीं छोड़ी वहीं दूसरी तरफ़ पुलिस ने भी मानवीय चेहरा दिखाते हुए कई नये आयाम स्थापित किये और इन सबके बीच भारत की जनता ने प्रधानमंत्री मोदी द्वारा की गयी लॉकडाउन की अपील को सिर माथे पर लिया।प्रधानमंत्री की अपील पर जनता अपनी स्वेच्छा से क़ैद होकर रह गयी लेकिन देश के लिये उफ़ तक नहीं की। पूरे देश में हज़ारों स्वयंसेवी संगठनों ने ग़रीब जनता को दो वक़्त का खाना व अन्य ज़रूरी वस्तुओं की सप्लाई के कमर कस रखी है। भारतीयों में लाख कमियाँ हो,लेकिन जब देश पर बात आती है तो हर जाति,धर्म,सम्प्रदाय के लोग तन,मन व धन से देश के साथ खड़े हो जाते हैं।ऐसा ही जज़्बा इस बीमारी में भी देखने को मिला है।सभी भारतीयों को दिल से प्रणाम । धन्यवाद व जय हिन्द

This Post Has 2 Comments

    1. Ravi Kalra

      Thank you sir

Leave a Reply