CORONA – क्या आपका मास्क बीमारी से बचा रहा है ?

CORONA – क्या आपका मास्क बीमारी से बचा रहा है ?

CORONA - क्या आपका मास्क बीमारी से बचा रहा है ?

चीन में जहाँ करोना वायरस से मरने वालों की संख्या 3500 से ऊपर पहुँच गयी है और एक लाख से अधिक लोग इस वायरस से संक्रमित हैं,वहीं दूसरी तरफ़ पूरी दुनिया में इस वायरस ने तेजी से पैर पसारे हैं। आज ईरान,इटली,दक्षिण कोरिया,थाइलैंड,भारत के अलावा तीसरी दुनिया के देशों तक इसकी पहुँच हो चुकी है। स्वास्थ्य अधिकारीयो के लिए इसको फैलने से रोकना एक बड़ी चुनौती बन चुका है।जैसे जैसे यह बीमारी ज़ोर पकड़ रही है,वैसे वैसे पूरी दुनिया में मास्क की डिमांड आसमान छूती जा रही है। दुनियाभर में डॉक्टर व मेडिकल वर्करो ने एक सुरक्षित मास्क पहनने पर ज़ोर दिया है। क्योंकि ज़्यादातर लोग इसे सही तरीक़े से इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं।जिसकी वजह से लीकेज का ख़तरा बढ़ जाता है।यहाँ तक लोग खाने पीने के लिए भी कई बार इसे निकालते हैं।मास्क ऐसा होना चाहिए जो वायरल इन्फ़ेक्शन से लड़ने के लिए कारगर हो। आज बाज़ार में कई तरह के मास्क प्रचलन में हैं।आईये उनपर एक नज़र डालते हैं।

CORONA - क्या आपका मास्क बीमारी से बचा रहा है ?

1. डिस्पोज़ल मास्क – यह मास्क सर्जिकल मास्क की तरह होते हैं। ये मास्क वायुजनित रोगों से निपटने में ख़ासी सुरक्षा प्रदान करते हैं।इसको हवा में मौजूद छोटे छोटे क़णो को रोकने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह मुँह व साँस से निकली बड़ी बड़ी बूँदो को आसपास मोजूद लोगों तक फैलने से रोकने के लिए एक उपयोगी मास्क है।इस तरह के मास्क को अधिकतम 8 घण्टे तक ही पहनना चाहिए।और बार बार छूने से बचना चाहिए।डिस्पोज़ल मास्क की इन बीमारीयो से लड़ने की एक निश्चित सीमा है।

CORONA - क्या आपका मास्क बीमारी से बचा रहा है ?

2. N95 मास्क – बाज़ार में उपलब्ध मास्क में यह मास्क सबसे अच्छा है।करोना वायरस जैसे ख़तरनाक वायरस के इन्फ़ेक्शन को रोकने में अति उपयोगी है।यह मुँह और नाक पर अच्छी तरह से फ़िट हो जाता है।यह मास्क हवा में मौजूद 95 प्रतीशत कीटाणुओं को रोकने में सक्षम है।इसलिए इसका नाम N95 पड़ा है।इस वायरस के कण डायमीटर में 0.12 माईक्रोन जितने होते हैं,जिनका यह बख़ूबी सामना कर सकता है।

CORONA - क्या आपका मास्क बीमारी से बचा रहा है ?

मास्क हर व्यक्ति के लिए सुरक्षा की गांरटी नहीं हो सकता है।लेकिन इससे कीटाणुओं के प्रसार पर रोक ज़रूर लगायी जा सकती है।इन मास्क पर N95 व FFP2 जैसी रेटिंग ज़रूर होनी चाहिए। मास्क के साथ साथ इस बीमारी से बचाव का सबसे बढ़िया तरीक़ा यह है की आप अपने हाथों को बार बार साबुन से धोइये। अगर साबुन उपलब्ध ना हो तो अल्कोहल बेस्ड हैंड सैनिटाईज़र का इस्तेमाल करे। आख़िर बचाव में ही उपचार होता है। धन्यवाद व जय हिंद

Leave a Reply